राज नाथ ने राजय सभा में कहा: हमारी सेना चीन की हर कारवाइ का जवाब देने के लिए तैयार है

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले की देश के लिए जितना बड़ा कदम उठाना पड़े भारत पीछे नाही हटेगा, राजनाथ सिंह बोले भारत न तो अपना सर झुकाएगा न किसी का झुकने देगा।
उन्होंने कहा कि चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा को नहीं मानता है और उसने यशास्थिति को बदलने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि चीन दोनों देशों के बीच हुए समझौतों की अनदेखी कर रहा है। रक्षा मंत्री ने कहा कि हमारे सैनिकों ने चीन की गतिविधियों के सामने ‘सयंम’ को बनाए रखा और भारत की क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए आवश्यक रूप से ‘शौर्य’ का भी प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि चीन द्वारा सैनिकों को इकट्ठा करना 1993 और 1996 में हुए समझौतों के खिलाफ है। साथ ही उन्होंने साफ कर दिया कि भारत किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हम किसी भी स्थिति में देश का सिर झुकने नहीं देंगे।
रक्षा मंत्री ने सदन को बताया कि जवानों के लिए गरम कपड़े, उनके रहने के लिए विशेष टेंट, सभी अस्त्र-शस्त्र एवं गोला बारूद की पर्याप्त व्यवस्था की गई है. हमारे जवानों का हौसला बुलंद है. राजनाथ सिंह ने कहा कि यह सच है कि हम लद्दाख में एक चुनौती के दौर से गुजर रहे हैं, लेकिन साथ ही मुझे पूरा भरोसा है कि हमारा देश और हमारे जवान इस चुनौती पर खरे उतरेंगे.

चीन द्वारा सैनिकों को इकट्ठा करना 1993 और 1996 में हुए समझौतों के खिलाफ है। वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान और कड़ाई से निरीक्षण करना सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और स्थिरता का आधार है। हमारे सशस्त्र बलों ने इसका स्पष्ट रूप से पालन किया है, वहीं चीनी पक्ष द्वारा ऐसा नहीं किया जा रहा है। चीन ने पिछले कई दशकों में सीमावर्ती क्षेत्रों में अपनी तैनाती क्षमताओं को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा निर्माण गतिविधियां की। हमारी सरकार ने भी सीमावर्ती अवसंरचना विकास के बजट को पिछले स्तरों से लगभग दोगुना कर दिया है। इस वर्ष की स्थिति सैनिकों के पैमाने और घर्षण बिंदुओं की संख्या के मामले में बहुत भिन्न है। हम वर्तमान स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान के लिए प्रतिबद्ध हैं। ठीक इसी समय हम सभी तरह की स्थिति से निपटने के लिए भी तैयार हैं। वर्तमान स्थिति में, संवेदनशील परिचालन मुद्दे हैं जिनके बारे में मैं विस्तार से नहीं बता सकता। मुझे उम्मीद है कि सदन मामले की संवेदनशीलता को समझेगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *